May 24, 2024
Mahabharat ki rachna kisne ki

महाभारत की रचना किसने और कहाँ की थी ? – Mahabharat ki rachna kisne ki

Mahabharat ki rachna kisne ki :- आज के इस लेख में हम महाभारत की रचना किसने और कहाँ की थी ? के बारे में जानेंगे। महाभारत के बारे में तो हर किसी ने सुना ही होगा, क्योंकि यह महाकाव्य हिंदू धर्म में एक अलग ही महत्त्व रखता है।

यदि आपको भी इसकी जानकारी नहीं है, की महाभारत की रचना कब की गई या महाभारत के रचयिता कौन है, तो इस लेख को अंत तक जरूर पढ़ें क्योंकि हम यहां इस विषय से संबंधित पूरी जानकारी देंगे।


महाभारत की रचना किसने और कहाँ की थी ? – Mahabharat ki rachna kisne ki

महाभारत, भारतीय साहित्य के महाकाव्य में से एक है, जिसकी रचना महा ऋषि वेदव्यास ने की थी। महाभारत का लेखन संस्कृत भाषा में हुआ था और इसे भारत के विभिन्न हिस्सों में सुनाया जाता महाभारत में तकरीबन 100,000 से अधिक श्लोक हैं और इसे आमतौर पर दो भागों में विभाजित किया जाता है।

महाभारत के पहले भाग को आमतौर पर ‘आदि पर्व’ कहा जाता है, जो भारतीय साहित्य की सबसे प्राचीन ग्रंथों में से एक है। महाभारत के दूसरे भाग को ‘उत्तर पर्व’ कहा जाता है, जो महाभारत के प्रमुख कथाओं को समाप्त करता है।

महाभारत में कुल 5 भाग होते हैं जिन्हें पंचम वेद के नाम से भी जाना जाता है, महाभारत ने भारतीय संस्कृति धर्म दर्शन इतिहास राजनीति और समाज के विभिन्न पहलुओं का विस्तृत वर्णन होता है।

महाभारत की रचना भारत के विभिन्न हिस्सों में विभिन्न समस्याओं में हुई थी इसमें विभिन्न विषयों कवियों और लेखकों ने भाग लिया था। महाभारत कथाएं भारतीय संस्कृति और दर्शन के प्रमुख सिद्धांतों और धर्म की महत्वपूर्ण प्रति मूर्तियों को उजागर करती है। यह कथाएं सत्य धर्म दान कर्तव्य प्रेम और सम्मान के मूल्यों को स्पष्ट करती है।


महाभारत की रचना कब की गई थी ?

ऐसा अनुमान लगाया जाता है,  महाभारत की रचना तकरीबन आज से 400 साल ईसा पूर्व में हुई थी। महाभारत एक महाकाव्य है, जो महाभारत काल में घटित घटनाओ के बारे में बताता है।

कुछ विद्वानों के अनुसार कहा जाता है, कि महाभारत की रचना भारत के उत्तर प्रदेश राज्य में स्थित हैदराबाद ग्रंथ आकार में संग्रहित पांडुलिपियों में कुछ श्लोकों के आधार पर की जाती है। हालांकि इसके वास्तविक रचना काल के बारे में लोगों का अलग-अलग मत है।

महाभारत के लेखक महर्षि वेदव्यास को माना जाता है। महाभारत में कुल 18 पर्व है, जो उन घटनाओं को बताते हैं, जो महाभारतीय काल में हुए थे। इसमें महाभारत युद्ध का वर्णन भी किया गया है, जो कि कौरवों और पांडवों के बीच हुआ था।

महाभारत दुनिया के सबसे लंबे महाकाव्य में से एक है,  जिसकी लंबाई करीबन 1,00,000 श्लोक होती है।


महा ऋषि वेदव्यास कौन थे ?

महर्षि वेदव्यास भारतीय पुराणों, इतिहास और धर्म ग्रंथों के महान लेखक थे। वे एक महान आचार्य, संस्कृत भाषा के ज्ञानी, रचनाकार तथा वेदों के विभिन्न भागों के व्याख्याता थे।

वेदव्यास जी हिंदू धर्म के बहुत ही महत्वपूर्ण महर्षि थे, वे हिंदू धर्म के महाकाव्य महाभारत के रचयिता भी हैं। इनका जन्म भारत के उत्तर प्रदेश में महाभारत काल में हुआ था। विस्तार से कहूं, तो महर्षि वेदव्यास का जन्म ब्रह्मी जेष्ठ मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी के दिन हुआ था।

उनका जन्म राजा पराशर के रूप में हुआ था, जो ब्रह्मा के वंशज थे। महर्षि वेदव्यास के पिता जी राजा पराशर थे, जो महर्षि वशिष्ठ के शिष्य थे तथा इनकी माता का नाम सत्यवती था, जो राजा शांतनु की पत्नी थी।

महर्षि वेदव्यास ने महाभारत के अलावा भी कई पुराणों और धर्म ग्रंथों का संचालन किया था। उन्होंने अपने जीवन काल में वेदों का संपादन किया और उनके चार भेदों को लोगों को समझाने के लिए एक आसान तरीका बताया।  साथ ही साथ उन्होंने भगवत गीता को महाभारत में सम्मिलित किया था।

महाभारत में लिखी गई अनेक उपकथाएं, नीति, दर्शन, इतिहास और धर्म के विषय पर बताती है। उन्होंने वेदों को वर्णित करने वाले वेदांत सूत्रों का भी लेखन किया था।

उनकी महत्वपूर्ण योगदानओं में से एक था, महाभारत की रचना करना। वेदव्यास जी ने विश्वामित्र संहिता, ब्रह्म सूत्र, श्रीमद् भगवत पुराण और कई अनेक ग्रंथों को लिखा था।


महाभारत कितने दिन में लिखी गई ?

महाभारत को लिखने में बहुत ज्यादा समय लगा था। महर्षि वेदव्यास ने इसे अलग-अलग अध्यायों में लिखा था। उन सभी अध्याय में लिखे गए कुल श्लोकों को मिलाकर श्लोकों की संख्या तकरीबन 100,000 है।

महर्षि वाल्मीकि ने महाभारत लिखने से पहले एक सभा बुलाई थी, जिसमें उन्होंने भगवान गणेश जी से भी मदद ली थी ।

महाभारत के अनुसार यह एक बहुत बड़ी और लंबी कथा है, जो महाभारत के युद्ध के बाद श्रद्धा के साथ लिखी गई थी। इसे लिखने में करीबन 30 सालों का समय लगा था।


महाभारत का युद्ध किस युग में हुआ था ?

महाभारत का युद्ध द्वापर युग में हुआ था, जो तकरीबन 3102 ईसा पूर्व से 3137 ईसा पूर्व के बीच में में है। इसमें महाभारत के राजा पांडु प्रथा के पुत्र अर्जुन ने कुरुक्षेत्र में कौरवों के विरुद्ध युद्ध किया था।

यह युद्ध तकरीबन 18 दिनों तक लगातार चलता रहा था, जिसमें अनेक वीरों की मृत्यु हुई थी। युद्ध के बाद विजयी पांडवो की राज सत्ता स्थापित की थी।

महाभारत में युद्ध के अलावा कई दूसरी कहानियां भी है, जो अर्जुन, भीष्म पितामह, द्रोणाचार्य, कर्ण और दुर्योधन जैसे अनेक पात्रों के जीवन को दर्शाता है।

महाभारत ना केवल भारतीय इतिहास और संस्कृति का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है, बल्कि इसमें भारतीय दर्शन, जैन और बौद्ध धर्म- वैष्णव संप्रदाय, समाजवाद और मनोविज्ञान जैसी अनेक विषयों का विस्तृत वर्णन की है।


FAQ’S :-

Q1. महाभारत के रचयिता कौन है ?

Ans - महर्षि वेदव्यास है महाभारत की रचना की थी।

Q2. महाभारत की रचना कब हुई थी ?

Ans - कुछ जानकारी के अनुसार महाभारत की रचना आज से करीब 400 साल ईसा पूर्व में हुई थी।

Q3. महाभारत किस भाषा में लिखी गई थी ?

Ans - महाभारत को संस्कृत भाषा में लिखा गया था।

Q4. महाभारत को लिखने में कितना समय लगा था ?

Ans - महाभारत को लिखने में 30 वर्षों का समय लगा था

Q5. महाभारत में कितने श्लोक हैं ?

Ans - महाभारत में तकरीबन 1,00,000 श्लोक है।

Q6. महाभारत में कितने अध्याय हैं ?

Ans - महाभारत में कुल 18 अध्याय हैं, जो विभिन्न विषयों पर आधारित है।

निष्कर्ष :-

आज का यह  लेख Mahabharat ki rachna kisne ki ( महाभारत की रचना किसने और कहाँ की थी ? ) यहीं पर समाप्त होता है।

आज के इस लेख में हमने ना केवल जाना कि महाभारत के रचयिता कौन है, बल्कि महाभारत की रचना कब और कहां हुई इसके बारे में भी हमने यहां बताया है।

उम्मीद करते हैं, आज के इस लेख के द्वारा दी गई जानकारी आपके लिए useful रही होगी। इसी के साथ यदि इस लेख से संबंधित आप को और अधिक जानकारी चाहिए, तो नीचे कमेंट के माध्यम से आप अपनी बात हम तक पहुंचा सकते हैं।

यदि यह लेख पसंद आया हो, तो कृपया इसे अन्य लोगों के साथ अवश्य शेयर करें ताकि हर किसी को महाभारत के रचयिता के बारे में जानकारी प्राप्त हो सके।


Also Read :- 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *