May 18, 2024
Corn Flour Meaning in Hindi

कॉर्नफ्लोर कौन सा आटा होता है ? – Corn Flour Meaning in Hindi

Corn Flour Meaning in Hindi :- आज हम इस लेख में Corn Flour Meaning in Hindi ( Corn Flour का मतलब क्या होता है ) इसके बारे में विस्तार पूर्वक बताने वाले हैं। दरअसल आज तरह-तरह के व्यंजन में टेस्ट लाने के लिए कॉर्न फ्लोर का इस्तेमाल किया जाता है।

यदि आप ऑनलाइन रेसिपीज देखें, तो आपको कॉर्नफ्लोर का जिक्र हर जगह दिखाई देगा। लेकिन समस्या तब आती है, जब लोगों को कॉर्नफ्लोर का सही अर्थ नहीं पता होता।

यही वजह है, कि आज हम यहां आपको कॉर्नफ्लोर का अर्थ क्या है तथा कॉर्न फ्लोर और कॉर्न स्टार्च में क्या अंतर है और कॉर्न फ्लोर के फायदे व नुकसान के बारे में यहां बात करेंगे।


कॉर्नफ्लोर कौन सा आटा होता है ? – Corn Flour Meaning in Hindi

कॉर्न फ्लोर का हिंदी मतलब मकई का आटा होता है। यह मकई से बनाया जाता है। इसका निर्माण मकई के दानों को सुखाकर और उन्हें चक्की में पीस कर जिया जाता है। इस प्रक्रिया से मकई का पाउडर तैयार होता है,  जिसे ही कॉर्नफ्लोर के नाम से जाना जाता है।

कॉर्नफ्लोर यानी मकई का आटा बारीक और  सफेद रंग का होता है, जो दिखने में बिल्कुल बेकिंग सोडा या बेकिंग पाउडर के समान लगता है।

वर्तमान समय में कॉर्न फ्लोर की मांग भारतीय बाजार में काफी तेजी से बढ़ रही है। शुरुआती समय में इसका इस्तेमाल विदेशों में सबसे अधिक होता था, लेकिन अब भारत में भी कॉर्नफ्लोर की मदद से विभिन्न प्रकार के व्यंजन बनाए जाते हैं।

कॉर्न फ्लोर को विभिन्न नामों से जाना जाता है। अलग-अलग देशों और स्थानों के अनुसार कॉर्न फ्लोर को भी अलग-अलग नामों से पहचाना जाता है। हालांकि कॉर्नफ्लोर बाजार में आसानी से मिल जाते है, लेकिन कॉर्न फ्लोर को घर पर भी आसानी से बनाया जा सकता है, जिसके बारे में भी हम नीचे विस्तार से बात करेंगे।


Corn Flour का अर्थ क्या है ? ( कॉर्नफ्लोर कौन सा आटा होता है ?)

कॉर्न फ्लोर एक तरह का खाद्य पदार्थ है, जो विभिन्न व्यंजनों आदि में इस्तेमाल किया जाता है। कॉर्न फ्लोर  मकई यानी भूट्टा और उन के दानों को पीसकर बनाया जाता है। कॉर्न फ्लोर अपनी सफेद रंग और हल्की मोटाई के लिए पहचाना जाता है।

कॉर्न फ्लोर ग्लूटेन मुक्त होता है, यानी इसमें ग्लूटेन नहीं पाया जाता है। इसलिए संवेदनशीलता वाले लोग जिन्हें ग्लूटेन खाने से परहेज है या जो डाइट पर हैं, वह लोग भी इसका इस्तेमाल बिना किसी हिचक के कर सकते हैं।

कॉर्न फ्लोर का उपयोग विभिन्न रेसिपीज में किया जाता है। खास तौर पर पकवानों में thickener या binding agent के रूप में इसका इस्तेमाल अधिक किया जाता है।

यह किसी भी व्यंजन को मोटापा करने उन्हें मुलायम बनाने या गाढ़ा करने के लिए सबसे बेस्ट इनग्रेडिएंट में से एक है। यह मसालेदार सूप, सॉस, ग्रेवी, केक, पेस्ट्री, ब्रेड, नूडल्स, पापड़, चिप्स और अन्य विभिन्न खाद्य पदार्थों में उपयोग होता है।

इसके अलावा कॉर्नफ्लोर का उपयोग त्वचा की देखभाल में भी किया जाता है। जहां यह छिद्रशोधन यानी एक्सफोलिएंट (exfoliant) के रूप में उपयोग होता है। इसे त्वचा के ऊपरी सतह से हटाने और स्क्रब के रूप में उपयोग किया जाता है।


Corn Flour और Corn Starch में क्या अन्तर है ?

सुनने में ऐसा प्रतीत होता है, कि कॉर्न फ्लोर और कॉर्न स्टार्च दोनों अलग-अलग प्रोडक्ट है। लेकिन सच तो यह है कि कॉर्न फ्लोर और कॉर्न  स्टार्च दोनों एक ही प्रोडक्ट है और दोनों ही मक्के से बनाए जाते हैं।

दरअसल कॉर्न स्टार्च भी मक्के का ही आटा होता है बस फर्क इतना है, कि इसे अलग-अलग देशों में अलग-अलग नामों से जाना जाता है।

कॉर्नफ्लोर या कॉर्न स्टार्च बनाने के लिए मक्के के दाने का ऊपरी परत जो पीले रंग का होता है यानी मक्के के दाने का छिलका उसे पहले हटाया जाता है, जिसके बाद ही मक्के के दाने से चिकना और सफेद रंग का पाउडर निकलता है, जो  कॉर्न फ्लोर या कॉर्न स्टार्च कहलाता है।

जानकारी के लिए आपको बता दें, कि UK  यानी यूनाइटेड किंगडम में मकई के आटे को कॉर्नफ्लोर के नाम से जाना जाता है। तो वही USA यानी यूनाइटेड स्टेट ऑफ अमेरिका में इसे कॉर्नस्टार्च के नाम से जाना जाता है।

अब यदि भारत की बात करें, तो भारत में दोनों ही नाम समान रूप से प्रचलित है। कुछ लोग इसे कॉर्नफ्लोर कहते हैं, तो कुछ लोग इसे कॉर्न स्टार्च कहना पसंद करते हैं।


Corn और Maize में अन्तर ( Varn Vs Maize in Hindi )

कॉर्न फ्लोर और कॉर्न स्टार्च के बीच क्या अंतर है, यह तो अब आप अच्छी तरह से समझ ही गए होंगे। लेकिन, यहां एक और शब्द है जिसे लेकर लोग अक्सर कंफ्यूज हो जाते हैं और वह है Maize शब्द। आपने Maize शब्द के बारे में तो सुना ही होगा, लेकिन क्या आप जानते है, कि Maize का अर्थ क्या है ?

जानकारी के लिए आपको बता दें, कि Corn ( कॉर्न ) का मतलब होता है, ‘ मकई या भुट्टे का दाना ‘। जी हाँ और लोग समझते हैं, कि Corn का मतलब पूरा भुट्टा होता है।

लेकिन ऐसा नहीं है, Corn का मतलब सिर्फ मकई के दाने होते हैं। जबकि Maize का मतलब होता है ‘ पूरा भुट्टा ‘ जी हाँ  Maize पूरे भुट्टे को कहा जाता हैं। और यही वजह है, कि Corn Meal Flour को Maize Flour के नाम से भी जाना जाता है। जिससे खास तौर पर मकई की रोटियां बनाई जाती है।

इसके अलावा Corn Flour में मकई के दाने को छिलकर  और उसे पीसकर कॉर्नफ्लोर तैयार किया जाता है। जबकि Maize Flour या Corn Meal Flour में मकई के दाने को सुखा कर और फिर उसे पीसकर Maize Flour या  कॉर्न मील फ्लोर तैयार किया जाता है।

आपको बता दें, कि इस का  रंग कॉर्नफ्लोर की तरह सफेद नहीं बल्कि पीला रंग का होता है और यह दिखने में थोड़ा दरदरा होता है जबकि कॉर्नफ्लोर बिल्कुल बारीक पाउडर के सामान होता है।


कॉर्नफ्लोर के फायदे ( Benefits of Corn Flour )

कॉर्न फ्लोर सबसे ज्यादा उपयोग में लाने वाला इनग्रेडिएंट है, जो वर्तमान समय में हर किसी के रसोईघर में देखने को मिल जाता है। अगर बता दे, कि इस इनग्रेडिएंट यानी कॉर्नफ्लोर के कई अनगिनत फायदे भी हैं, जिनके बारे में शायद अब तक आपको पता ना हो। लेकिन  आज हम यहां को कॉर्नफ्लोर के फायदे के बारे में बता रहे हैं। जैसे कि :-

  • कॉर्न फ्लोर यानी मकई के आटे में विटामिन बी के साथ-साथ विभिन्न प्रकार के पोषक तत्व पाए जाते हैं, जो हमारे शरीर को पोषण देते हैं और हमारे शरीर को स्वस्थ रखने में मदद करते हैं।
  • कॉर्नफ्लोर में फाइबर की मात्रा भी काफी अधिक पाई जाती है, जो हमारे शरीर को एनर्जी, पोषण और मिनिरल्स प्रदान करते है।
  • पॉलिफिनॉल्स एंटीऑक्सीडेंट ( Polyphenol antioxidant ) की प्रचुर मात्रा पाई जाती है, जो शरीर में सूजन और अन्य समस्याओं से निजात पाने में महत्वपूर्ण योगदान देता है।
  • मकई के आटे यानी कॉर्न फ्लोर में विभिन्न प्रकार के फाइबर तत्व पाए जाते हैं, जिनमें सेल्यूलस (Cellulose) , लिगन्नि (Lignin) और ऐमिलोस (Amylose) जैसे तत्व शामिल है। यह सभी तत्व हमारे शरीर की पाचन से संबंधित समस्याओं से निजात पाने में मदद करती है और हमारे शरीर के लिए काफी फायदेमंद साबित होती है।

कॉर्नफ्लोर के नुकसान ( Disadvantages of Corn Flour )

जिस तरह कॉर्नफ्लोर के कई अनगिनत फायदे हैं, उसी तरह इनके कुछ नुकसान भी हैं। जिनके बारे में जानना हर किसी के लिए बहुत जरूरी होता है। यहां नीचे हम कॉर्न फ्लोर के कुछ नुकसान के बारे में आपको बता रहे हैं। जैसे कि :-

  • किसी भी चीज का सेवन यदि सही क्वांटिटी में किया जाए, तो फायदा पहुंचता है। लेकिन जब उसी चीज का सेवन जरूरत से ज्यादा किया जाए, तो उसका नुकसान भी झेलना पड़ता है। उसी तरह कॉर्नफ्लोर का सेवन अधिक करने से गैस की समस्या सूजन और पेट फूलने की समस्या आदि हो सकती है।
  • कभी-कभी कॉर्नफ्लोर का अधिक सेवन करने से पेट में ऐंठन, अपच तथा आंतों में विभिन्न प्रकार की बीमारियां होने का खतरा होता है, इसलिए कॉर्नफ्लोर का सेवन अधिक करने से बचें।
  • कॉर्नफ्लोर व्यंजन में स्वाद लाने का काम करता है। लेकिन जब इसे रोजाना इस्तेमाल करें, तो जोड़ों की दर्द की समस्या होने का खतरा रहता है। इसलिए इसका इस्तेमाल रोजाना करने से बचें।

FAQ’S:-

Q1. मकई का आटा किस देश से आता है ?

Ans - मकई का अधिक पैदावार मेक्सिको में है। इसलिए कह सकते हैं,  कि मकई का आटा मेक्सिको से आता है।

Q2. आरारोट का दूसरा नाम क्या है ?

Ans - अरारोट के कई अनगिनत नाम है जैसे बिलायती, तिखूर, आरारूट, तवखार आदि।

Q3. क्या कॉर्न फ्लोर सादे आटे से बेहतर है ?

Ans - स्वास्थ्य के अनुसार यदि देखा जाए तो कॉर्नफ्लोर सादे आटे के मुकाबले ज्यादा बेहतर है, क्योंकि मकई के आटे 
में फाइबर अधिक मात्रा में पाई जाती है और इसके अलावा इसमें बाकी आटो की तुलना में अधिक एंटीऑक्सीडेंट पाया जाता है।

Q4. कॉर्नफ्लोर से क्या-क्या बनता है ?

Ans - कॉर्न फ्लोर से ब्रेड ग्रेवी सॉस सूप बर्गर पास्ता कुकीज न्यूडल्स आदि जैसे स्वादिष्ट व्यंजन बनते हैं।

Q5. अरारोट और कॉर्नफ्लोर में अंतर क्या है ?

Ans - कॉर्न फ्लोर मकई के दानों को छीलकर तथा पीसकर बनाए जाते हैं, जबकि आरारोट अरारोट पौधे की जड़ से निकाला जाता है।

निष्कर्ष :-

आज का यह लेख “Corn Flour Meaning in Hindi (Corn Flour का मतलब क्या होता है)” यहीं पर समाप्त होता है। आज के इस लेख में हमने आपको बताया कि Corn Flour का अर्थ क्या है, Corn और Maize में क्या  अंतर है तथा कॉर्नफ्लोर कैसे बनाए जाते हैं आदि।

उम्मीद करते हैं, हमारे द्वारा दी गई जानकारी आपके लिए यूज़फुल रही होगी और इससे आपको काफी कुछ नया सीखने को मिला होगा। इसी के साथ यदि आपको इस विषय से संबंधित और अधिक जानकारी चाहिए, तो नीचे कमेंट के माध्यम से आप अपनी बात हम तक पहुंचा सकते हैं।

परंतु यदि यह लेख आपको पसंद आया हो, तो इसे जितना हो सके उतना शेयर करें और कमेंट के माध्यम से हमें अपनी राय जरूर दें, कि आपको यह लेख और यह जानकारी कैसी लगी?


Also Read :- 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *